"तीन लोक रचना" के अवतरणों में अंतर

JAMBUDWEEP से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
पंक्ति १४: पंक्ति १४:
  
 
[[चित्र:1122.JPG|right|300px]]
 
[[चित्र:1122.JPG|right|300px]]
 +
यहाँ लिफ़्ट की भी सुन्दर ब्यवस्था है , जिससे अशक्त यात्री भी ऊपर तक जाकर वन्दना का लाभ लेते हैं ।
 
[[चित्र:1028.jpg|left|300px]]
 
[[चित्र:1028.jpg|left|300px]]
  
 
<font size="" color="#F89D08"></font>
 
<font size="" color="#F89D08"></font>

१९:०५, २६ जून २०२० का अवतरण

तीन लोक रचना

1072.jpg

जम्बूद्वीप तीर्थ पर निर्मित तीनलोक रचना

जम्बूद्वीप तीर्थ पर विश्व में प्रथम बार निर्मित एक और रचना है,जिसे 'तीनलोक' कहा जाता है | इस रचना में जैन धर्म के अनुसार अधोलोक, मध्यलोक एवं ऊर्ध्वलोक की अवस्थिति प्रदर्शित की गई है, जिसमें अधोलोक में भवनवासी, व्यंतर आदि देवों के भवन, जिनमंदिर तथा 7 नरक व वहाँ उपस्थित नारकियों की दशा, मध्यलोक में पंचमेरू पर्वत आदि तथा ऊर्ध्वलोक में 16 स्वर्ग में रहने वाले देवों का ऐश्वर्य, भव्य जिनमंदिर, नवग्रैवेयक,नवअनुदिश,पंच अनुत्तर व सबसे ऊपर सिद्धशिला आदि प्रदर्शित किये गये हैं | इस रचना में विराजमान की गई समस्त प्रतिमाएं पंचकल्याणक पूर्वक प्रतिष्ठित हैं |"अच्छे कार्यों से शुभ फलस्वरूप स्वर्ग व मोक्ष का वैभव एवं बुरे कार्यों के अशुभ फलस्वरूप नरक की वेदना",इस रचना के दर्शन से प्रत्येक जनमानस को यही सन्देश प्राप्त होता है | विशेषता- इस रचना में लिफ्ट के द्वारा सेकेण्डों में सिद्धशिला तक पहुँचा जा सकता है |





1122.JPG

यहाँ लिफ़्ट की भी सुन्दर ब्यवस्था है , जिससे अशक्त यात्री भी ऊपर तक जाकर वन्दना का लाभ लेते हैं ।

1028.jpg