002_1

7 हाथ अवगाहना प्रमाण भगवान महावीर

002_2

नवग्रहशांति जिनंदिर विराजमान 

भगवन्तों की 9 प्रतिमाएँ

002_3

त्रिकाल चौबीसी जिन मंदिर

002_4

विश्वशांति महावीर मंदिर (मध्य), 

भगवान ऋषभदेव मंदिर (बाएं),

नवग्रहशांति जिनमंदिर (दाएं)

कुण्डलपुर (नालंदा) तीर्थ का विकास


        भगवान महावीर जन्मभूमि कुण्डलपुर (नालंदा) में 'नद्यावर्त महल' नाम से निर्मित तीर्थ परिसर में 108 फुट ऊँचा कलात्मक शिखर वाला विश्वशांति भगवान महावीर मंदिर है तथा उसके आजू-बाजू में भगवान ऋषभदेव मंदिर, नवग्रहशांति मंदिर बने हैं। महल के ठीक सामने तीन मंजिल ऊँचा विशाल त्रिकाल चौबीसी मंदिर है। इनके अतिरिक्त वहाँ के सुंदर सर्वार्थसिद्धि द्वार में प्रवेश करते ही दाई ओर कल्पवृक्ष कार्यालय है और अन्दर जाकर आधुनिक सुविधायुक्त 'गणिनी ज्ञानमती निलय नाम से दो मंजिली धर्मशाला में 35 फ्लैट्स हैं। सुंदर भोजनशाला, पानी की टंकी बिजली आदि सभी सुविधाओं से सम्पन्न भगवान महावीर की जन्मभूमि कुण्डलपुर तीर्थ सभी भक्तों का अपनी ओर आकर्षित करता है। दिगम्बर जैन त्रिलोक शोध संस्थान के अन्तर्गत संचालित इस तीर्थ पर पहुंचने हेतु इस पते पर संपर्क करें - 


भगवान महावीर जन्मभूमि कुण्डलपुर, नंद्यावर्त महल


पो.-कुण्डलपुर (नालंदा) बिहार-803111 

फोन नं. (06112) 281846, मो. 09431022376

002_5

नंद्यावर्त महल