गणिनीप्रमुख आर्यिका श्री ज्ञानमती दीक्षा तीर्थ माधोराजपुरा (जयपुर) राज. का भव्य विकास
प्रेरणाश्रोत- प्रज्ञाश्रमणी आर्यिका श्री चंदनामती माताजी
002_1
002_2

गणिनीप्रमुख आर्यिका श्री ज्ञानमती माताजी 

                 प्रज्ञाश्रमणी आर्यिका श्री चंदनामती माताजी की प्रेरणा एवं दिगंबर जैन त्रिलोक शोध संस्थान के सहयोग से श्री ऋषभदेव जनसेवा संस्थान, माधोराजपुरा (जयपुर) राज. द्वारा पूज्य माताजी की आर्यिका दीक्षा भूमि मधोराजपुरा में विशाल भूखण्ड पर अतिसुन्दर भव्य तीर्थ का निर्माण करके सम्मेदशिखर पर्वत की रचना निर्मित की गई है | पर्वत पर 24 तीर्थंकरों के जिनालय एवं चोटी पर 15 फुट उत्तुंग भगवान पार्श्वनाथ की खाडगासन प्रतिमा वन्दनीय है | पर्वत की गुफा में एक जिनचैत्यालय, पूज्य माताजी के चरण चिह, चित्र प्रदर्शिनी द्वारा पूज्य माताजी का जीवन दर्शन, भगवान पार्श्वनाथ के यक्ष-यक्षिणी पदमावती माता एवं धरणेन्द्र देव का मंदिर, प्रथामाचार्य श्री शान्तिसागर जी महाराज एवं प्रथम पट्टाचार्य श्री वीर सागर जी महाराज की प्रतिमाएं भी दर्शनीय एवं वन्दनीय हैं | इस तीर्थ का पञ्चकल्याणक प्रतिष्ठा महोत्सव पीठाधीश क्षुल्लक श्री मोतीसागर जी महाराज के सान्निध्य में एवं कर्मयोगी ब्र. रवींद्र कुमार जैन के कुशल निर्देशन में विशेष उत्साह पूर्वक दिनांक 21 से 26 नवम्बर 2021 के मध्य संपन्न हुआ | तीर्थ पर विराजमान भगवान पार्श्वनाथ की खडगासन प्रतिमा अत्यंत अतिशयकारी है, जिसके दर्शन-वंदन से भक्तों के सर्वमनोरथों की सिद्धि होती है | अपनी यात्रा में ऐसे तीर्थ पर अवश्य पधारकर विशेष पुण्यलाभ अर्जित करें |

002_3

प्रज्ञाश्रमणी आर्यिका श्री चंदनामती माताजी

                             तीर्थ की अवस्थिति-माधोराजपुरा तीर्थ जयपुर से मालपुरा रोड पर ५० किमी., सांगानेर से ३५ किमी., पदमपुरा से ५० किमी. व तहसील फागी से ८ किमी. दूर स्थित है |                            

निवेदक - गणिनीप्रमुख आर्यिका श्री ज्ञानमती दीक्षा तीर्थ  

अंतर्गत - श्री ऋषभदेव जनसेवा संस्थान (रजि.), माधोराजपुरा (जयपुर) राज., संपर्क - 09829228700, 09351105559